राज्यों के पर्यावरण और वन मन्त्रियों का सम्मेलन

Author:नेशनल दुनिया डेस्क
Source:नेशनल दुनिया, 06 अप्रैल 2015
सम्मेलन का मुख्य मुद्दा
1. अपशिष्ट से धनार्जन
2. कार्य-संचालन की सुगमता
3. वन, वन्यजीव और हरित भारत मिशन
4. प्रदूषण नियंत्रण
5. जैव-विविधता और पारिस्थितिकी की दृष्टि से संवेदनशील क्षेत्र
6. जलवायु परिवर्तन

उद्घाटन : श्री नरेन्द्र मोदी, भारत के प्रधानमन्त्री 6-7 अप्रैल, 2015, विज्ञान भवन, नई दिल्ली

इस अवसर पर 6 से 11 अप्रैल, 2015 तक इन्दिरा पर्यावरण भवन, जोर बाग रोड, नई दिल्ली-110003 में ‘जैव-विविधता ग्रीन हाट’ का आयोजन किया गया है।

Latest

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व

प्रतापगढ़ की ‘चमरोरा नदी’ बनी श्रीराम राज नदी

मैंग्रोव वन जलवायु परिवर्तन के परिणामों से निपटने में सबसे अच्छा विकल्प

जिस गांव में एसडीएम से लेकर कमिश्नर तक का है घर वहाँ पानी ने पैदा कर दी सबसे बड़ी समस्या

गढ़मुक्तेश्वर के गंगाघाट: जहां पहले पॉलीथिन तैरती थीं, वहां अब डॉलफिन तैरती हैं