राष्ट्रीय क्षय एवं श्वसन रोग संस्थान (National Institute of Tuberculosis and Respiratory Diseases)

Author:रोजगार समाचार
Source:रोजगार समाचार, 6-12 मई, 2017

राष्ट्रीय क्षय एवं श्वसन रोग संस्थान
(स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन एक स्वायत्तशासी निकाय)

श्री अरविन्द मार्ग (कुतुब मीनार के निकट) नई दिल्ली-110030

भर्ती सूचना संख्या अप्रैल 2017
भारतीय नागरिकों से निम्नलिखित पदों (क्रम संख्या 1 से 5) के लिये अपेक्षित शुल्क के साथ निर्धारित प्रारूप में आवेदन आमंन्त्रित किए जाते हैं। निर्धारित प्रारूप में भरे हुए आवेदन 30 मई 2017 तक 15.30 बजे से पहले अधोहस्ताक्षरी के कार्यालय में पहुँच जाने चाहिए।



 

क्र.सं.

पद तथा वेतन बैंक के साथ ग्रेड वेतन

पदों की संख्या

1.

विशेषज्ञ ग्रेड II (क्षय एवं छाती रोग)

रुपये 15600-39100 + ग्रेड वेतन रुपये 6600/- (ग्रुप-ए)

एक (ओ.बी.सी.)

2.

स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी

रुपये 15600-39100 + ग्रेड वेतन रुपये 5400/- (ग्रुप-ए)

एक (अनारक्षित-1)

3.

प्रयोगशाला सहायक

रुपये 5200-22200 + ग्रेड वेतन रुपये 2000/- (ग्रुप-सी)

एक (अनारक्षित-1)

4.

सहायक अभियन्ता (सिविल)

रुपये 9300-34800 + ग्रेड वेतन रुपये 4600/- (ग्रुप-बी)

एक (अनारक्षित-1)

5.

स्टाफ नर्स

रुपये 9300-34800 + ग्रेड वेतन रुपये 4600 (ग्रुप-बी)

02 (अनारक्षित-1, अनु.ज. जाति-1)

पदों, आयु, योग्यताओं, आवेदन पत्र, निबंधन एवं शर्तों इत्यादि का विवरण संस्थान की वेबसाइट (www.nitrd.nic.in) से प्राप्त कर सकते हैं/संस्थान के सूचनापट्ट पर देख सकते हैं।

 



6/49/स्वायत्त निकाय/भर्ती/अन्य/अन्य/स्थाई/दिल्ली
 

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन