राष्ट्रीय मीडिया कार्यशाला -2015 का आयोजन

Author:हिन्दी इंडिया वाटर पोर्टल

तीन वर्षों से स्पंदन संस्था द्वारा मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद के सहयोग से मीडिया चौपाल का आयोजन किया जा रहा है। इस वर्ष यह आयोजन ‘जीवाजी विश्वविद्यालय’, ग्वालियर में होना है।

राष्ट्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार परिषद, भारत सरकार के सहयोग से 'राष्ट्रीय मीडिया कार्यशाला -2015' का आयोजन 10-11 अक्टूबर, 2015 को हो रहा है।

वर्ष 2013 में मीडिया चौपाल का मुख्य-विषय 'जन-जन के लिए मीडिया' तथा वर्ष 2014 का मुख्य विषय ‘नदी संरक्षण’ था। इस राष्ट्रीय मीडिया कार्यशाला का केन्द्रीय विषय 'नदी संरक्षण एवं पुनर्जीवन' है। इस कार्यशाला में लगभग 150-200 जन-संचारक, पत्रकारों के साथ-साथ मीडिया व जल (नदी) के विशेषज्ञों के साथ ही बुद्धिजीवी और चिन्तक भी शामिल होंगे।

कार्यशाला में भागीदारी के लिए कृपया इस लिंक पर रजिस्ट्रेशन कराएँ

http://www.spandanfeatures.com/पंजीयन/

 

 

कार्यशाला में निम्न तकनीकी विषय होंगे


भारत की नदियाँ : कल, आज और कल
मध्यप्रदेश की नदियाँ : कल, आज और कल
नदियों का विज्ञान और पारिस्थितिकी
जनमाध्यमों में नदियाँ : स्थिति, चुनौतियाँ और सम्भावनायें
नदियों का पुनर्जीवन : संचारकों की भूमिका (रिपोर्टर, स्तम्भ लेखक, फीचर लेखक, ब्लॉगर, वेब-संचालक, सोशल मीडिया एक्टिविस्ट, कवि/कवयित्री, साहित्यकार, प्रवचनकार, रंगकर्मी आदि)
नदियों की रिपोर्टिंग : विविध पक्ष - आर्थिकी, अपराध और लोकोपयोग

 

 

Latest

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन 

गौरैया को मिल गया नया आशियाना

गंगा की अविरलता और निर्मलता को स्थापित करने के लिये वर्चुअल मीटिंग का आयोजन 

चरखा ने "संजॉय घोष मीडिया अवार्ड्स 2020" सम्मान समारोह का किया आयोजन

पर्यावरण संरक्षण, खुशहाली और समृद्धि का प्रतीक है हरेला

कोविड महामारी के बावजूद 1,00,275 गांवों को मिल चुके है नल कनेक्शन