राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन

Author:संजीव प्रधान

रंगारंग भजन संध्या से हुआ राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन शिविर का समापन


स्वच्छ गंगा मिशन30 जनवरी से 27 फरवरी तक चले राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन शिविर का समापन - महाशिवरात्रि पर खत्म हुआ संध्याकालीन भजन संध्या में प्रसिद्ध भजन गायिका - पूजा सिंह एवं नीरज सिंह ने अपनी एक से एक प्रसिद्ध भजनों की प्रस्तुति से सबका मन मोह लिया। उन्होंने सर्वप्रथम गणेश वन्दना एवं सरस्वती वन्दना गाई। फिर साई के कई प्रसिद्ध भजन गाए। फिर गंगा मिशन को ध्यान में रखते हुए पूजा सिंह ने हे गंगा मइया तोहे पियरी चढ़इबे गाया। फिर, गंगा तेरा पानी अमृत और राम तेरी गंगा मैली जैसे गीत को अपने मधुर कंठ सेे पिरोकर उन्होंने समापन कार्यक्रमों समा बांध दिया।

उन्होंने बीच में अतिथियों के उद्बोधन के पश्चात अन्तिम भजन शिर्डी वाले साईं बाबा आया है तेरे दर पर सवाली गाया और पूरा पण्डाल उनके इस गीत के साथ ताली बजाता रहा। संचालन संजय पुरूषार्थी ने अपने कर्मप्रिय आवाज में किया और श्रोताओं को मोहित किया गया। उनकी आवाज में रिकार्ड की गई गंगा की विनती के फिल्मांकन को भी प्रस्तुत किया गया। युवा कवियित्री स्मिता मालवीय ने हे गंगे माॅं तेरी धारा कविता गाई।

नगर निगम के नए नगर आयुक्त श्री आर पी सिंह ने कार्यक्रम की सराहना की और नगर निगम द्वारा लगाए शिविर के प्रयास को उत्तम बताया उन्होंने गंगा के संरक्षण में सरकार समाज को मिलकर कार्य करने पर जोर दिया और हस्ताक्षर अभियान में भी भागीदारी की। विशिष्ट अतिथि प्रेस क्लब के अध्यक्ष रतन दीक्षित ने प्रेस क्लब की सराहना की और कहा की मीडिया की भूमिका और भी अधिक होनी चाहिए। जिससे जन मानस को अधिक से अधिक जागरूक किया जा सके।

स्वच्छ गंगा मिशनप्रेस क्लब के सचिव देवेन्द्र प्रताप सिंह ने कलाकारों की सराहना की। विशिष्टि अतिथि डाॅ. विभा मिश्रा ने कहा की नगर निगम ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों को जोड़कर एक नई दिशा दी। प्रोग्राम कार्डिनेटर मनोज श्रीवास्तव ने वर्षों से पर्यावरण पर कार्य रहे। गंगा को राष्ट्रीय नदी बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया और अब क्योंकि राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के माध्यम से नगर निगम गंगा के लिए कार्य कर रहा है इसलिए मैं इस अभियान से जुड़ा हूँ। मीडिया को भी नकारात्मक पहलू के साथ किये जा रहे सकारात्मक कार्यक्रमों को लोगों तक पहुँचाना चाहिए। सिर्फ आलोचना से कुछ नहीं होगा। पर्यावरण अभियन्ता संजीव प्रधान ने सबका धन्यवाद ज्ञापित किया।

एस एल यादव विधिक सलाहकार ने गंगा के प्रदूषण में ब्रिटिश लोगों की भूमिका की बात की। वही नगर निगम के शशिकान्त तिवारी ने शंकर जी की स्तुति पाठ किया। बाद में नगर आयुक्त ने सभी कलाकारों एवं अन्य अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट किया और रात्रि भोज के पश्चात कार्यक्रम का समापन किया गया।

कार्यक्रम में लोकेश जैन, सुनील कुमार गुप्ता, डाॅ. ए. के. रजा, धीरज गोयल, पूनम सिंह, अभय अग्रवाल, अवधेश कुमार निषाद, अशीष मालवीय, पूजा सिंह, मिथुन दूबे एवं अभिमन्यु आदि शामिल हुए।

संजीव प्रधान
पर्यावरण अभियन्ता
नगर निगम, इलाहाबाद


Latest

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व

प्रतापगढ़ की ‘चमरोरा नदी’ बनी श्रीराम राज नदी

मैंग्रोव वन जलवायु परिवर्तन के परिणामों से निपटने में सबसे अच्छा विकल्प

जिस गांव में एसडीएम से लेकर कमिश्नर तक का है घर वहाँ पानी ने पैदा कर दी सबसे बड़ी समस्या