सामुदायिक भागीदारी का बेजोड़ नमूना

Author:मीनाक्षी अरोड़ा
Source:फरहाद कॉंट्रेक्टर

जैसलमेर में सामुदायिक भागीदारी से अनगिनत जलस्रोतों की काया पलट गई। जो जलस्रोत पहले सूखे हुए थे उंहें भी समुदाय ने अथक परिश्रम और सूझबूझ से पानीदार बना दिया। आइए देखते हैं राजस्थान के पारंपरिक जल स्रोतों और समाज की सूझ-बूझ की कुछ झलकियां

 


Latest

जनमैत्री संगठन ने की हलद्वानी की रामगाड़ नदी अध्ययन यात्रा 

सीतापुर और हरदोई के 36 गांव मिलाकर हो रहा है ‘नैमिषारण्य तीर्थ विकास परिषद’ गठन  

कुकरेल नदी संरक्षण अभियान : नाले को फिर नदी बनाने की जिद

खारा पानी पीने को मजबूर ग्रामीण

कैसे प्रदूषण से किसी देश की अर्थव्यवस्था हो सकती है तबाह

भारत में क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें