सावन पहली पंचमी

Author:घाघ और भड्डरी

सावन पहली पंचमी, गरभे ऊदे भान।
बरखा होगी अति घनी, ऊँचो जानो धान।।


भावार्थ- सावन कृष्ण पंचमी को यदि सूर्य बादलों के बीच से उदित हो तो वर्षा बहुत होगी और धान की फसल भी अच्छी होगी।