सेटेलाइट से की जाएगी हरिद्वार महाकुंभ में निगरानी

Author:सुमन सेमवाल
Source: दैनिक जागरण, 18 फरवरी, 2020

 सेटेलाइट से की जाएगी हरिद्वार महाकुंभ में निगरानी सेटेलाइट से की जाएगी हरिद्वार महाकुंभ में निगरानी

यह पहली बार होगा, जब महाकुंभ पर सेटेलाइट से नजर रखी जाएगी। इसकी शुरुआत हरिद्वार में वर्ष 2021 में होने वाले महाकुंभ से की जा रही है। कुंभ मेला क्षेत्र की व्यवस्थाओं के लिए लगाए जाने वाले सीसीटीवी कैमरे सेटेलाइट से भी लिंक किए जाएंगे। इसके लिए उत्तराखंड अंतरिक्ष उपयोग केन्द्र (यूसैक) जियोस्पेसियल डाटाबेस तैयार करने में जुट गया है। सोमवार को इस सम्बन्ध में यूसैक निदेशक डॉ. एमपीएस विष्ट ने मेलाधिकारी दीपक रावत के समक्ष प्रस्तुतीकरण भी दिया।

यूसैक के निदेशक डॉ. विष्ट के अनुसार हाई रेजोल्यूशन सेटेलाइट डेटा के लिए भारतीय सेटेलाइट कार्टोग्राफ के साथ ही नासा के सेटेलाइट वर्ल्डव्यू की भी मदद ली जाएगी। नासा के सेटेलाइट से लाइव- व्यू के लिए हैदराबाद स्थित नेशनल रिमोट सेंसिंग सेंटर के पास आवेदन भी कर दिया है। सेटेलाइट की मदद से महाकुंभ मेला क्षेत्र में धरातल पर एक मीटर की किसी भी वस्तु को स्पष्ट देखा जा सकेगा। सोमवार को हरिद्वार में मेलाधिकारी दीपक रावत के समक्ष दिए गए प्रस्तुतीकरण के दौरान यूसैक निदेशक ने बताया कि महाकुंभ क्षेत्र की सेटेलाइट मैपिंग कर ली गई है। साथ ही धरातल पर सभी अहम संरचनाओं, भवनों, प्रतिष्ठानों का डेटा एकत्रित किया जा रहा है। हर महत्त्वपूर्ण स्थलों के ग्राउंड कंट्रोल प्वाइंट्स एकत्रित कर उन्हें जियोग्राफिक इंफार्मेशन सिस्टम (जीआइएस) के प्लेटफार्म पर तब्दील कर लिया गया है। लैटीट्यूड व लॉगीट्यूड से एक क्लिक पर इनकी स्थिति स्पष्ट की जा सकती है।

कुंभ स्नान में बहाव की भी होगी निगरानी

यूसैक ऐसी व्यवस्था भी तैयार कर रहा है कुंभ स्नान के दौरान गंगा नदी में पानी के बहाव की भी निगरानी की जा सके। स्नान से पहले ही बहाव का आकलन कर लिया जाएगा।

मेला क्षेत्र के 41 सेक्टर में से 23 पर काम पूरा

महाकुंभ मेला क्षेत्र को 41 सेक्टर में बांटा गया है। इनमें से यूसैक ने 23 सेक्टर का डेटा एकत्रित कर लिया है। यूसैक निदेशक के अनुसार 15 मार्च तक सभी 41 सेक्टर पर काम पूरा कर दिया जाएगा।

आपात स्थिति या अधिक भीड़भाड़ को संभालने में मिलेगी मदद

पूरे कुंभ मेला क्षेत्र की ऑनलाइन मॉनिटरिंग की व्यवस्था रहेगी। इसके लिए क्षेत्र के सभी प्रमुख प्रवेश व निकास मार्गों, खाली स्थानों आदि की जानकारी जुटाई जा रही है। इससे आपात स्थिति या अधिक भीड़ होने पर वैकल्पिक प्लान को लागू करने में भी मदद मिलेगी। निगरानी को सुगम बनाने के लिए मोबाइल एप भी तैयार की जा रही है। आम व्यक्ति भी इसकी मदद से मेला क्षेत्र की स्थिति से वाकिफ हो सकता है या मदद मांग सकता है। साथ ही ऑनलाइन निगरानी तंत्र को सीएम डैशबोर्ड व प्रमुख कार्यालयों से भी जोड़ा जाएगा।

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन