सीहोर जिले का डोडी पंचायत हुआ खुले में शौच से मुक्त

Author:राजु कुमार

खुले में शौच मुक्त हुआ डोडी पंचायतखुले में शौच मुक्त हुआ डोडी पंचायतभोपाल। मध्य प्रदेश पंचायत एवं ग्रामीण विकास की अपर मुख्य सचिव सुश्री अरुणा शर्मा ने आज 2 अक्तूबर को सीहोर जिले के डोडी ग्राम पंचायत को खुले में शौच से मुक्त गांव घोषित किया। ग्रामसभा में स्वच्छ भारत अभियान के तहत आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि गांवों को स्वच्छ रखने से बीमारी नहीं होगी और खुशहाली आएगी। शौचालय एवं साफ-सफाई से ग्रामीणों को ही फायदा है।


खुले में शौच मुक्त हुआ डोडी पंचायतखुले में शौच मुक्त हुआ डोडी पंचायतमहिलाएं इज्जत के लिए घूंघट करती हैं, पर शौच के लिए उन्हें बाहर जाना पड़े, तो घूंघट का क्या फायदा? डोडी गांव में कुल 311 परिवार हैं। इन सभीके घरों में शौचालय बन चुका है। एम.पी. टास्ट के तहत चल रहे वॉश कार्यक्रम के माध्यम से प्रदेश की स्वयंसेवी संस्थाओं एवं शासन को स्वच्छमध्य प्रदेश अभियान में तकनीकी सहयोग दिया जा रहा है। वॉश कार्यक्रम के तहत समर्थन संस्था के सहयोग से डोडी पंचायत को खुले में शौच से मुक्तकिया गया है। पूरे सीहोर जिले को खुले में शौच से मुक्त जिला बनाने का प्रयास किया जा रहा है।

कार्यक्रम में निर्मल भारत की राज्य कार्यक्रम अधिकारी सुश्री हेमवती वर्मन, एम.पी. टास्ट के डिप्टी टीम लीडर मैथ्यू लूकोस, समर्थन संस्था केनिदेशक डॉ. योगेश कुमार सहित जिले के जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक अधिकारियों ने भाग लिया। इस मौके पर सुश्री अरुणा शर्मा ने गांव का भ्रमणकर खुले में शौच से मुक्ति और स्वच्छता के प्रति पंचायतों को प्रेरित करने के लिए प्रतीकात्मक रूप से झाड़ू लगाया। उन्होंने सरपंच जानी बाई कोप्रशस्ति-पत्र देकर बेहतर कार्य के लिए सराहना की।

Latest

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व

प्रतापगढ़ की ‘चमरोरा नदी’ बनी श्रीराम राज नदी

मैंग्रोव वन जलवायु परिवर्तन के परिणामों से निपटने में सबसे अच्छा विकल्प

जिस गांव में एसडीएम से लेकर कमिश्नर तक का है घर वहाँ पानी ने पैदा कर दी सबसे बड़ी समस्या

गढ़मुक्तेश्वर के गंगाघाट: जहां पहले पॉलीथिन तैरती थीं, वहां अब डॉलफिन तैरती हैं