समान दर से नहीं बढ़ रहा समुद्र का जल स्तर

Author:अमर उजाला कॉम्पैक्ट
Source:अमर उजाला कॉम्पैक्ट, 28 नवम्बर 2010


ग्लोबल वार्मिंग के कारण ग्लेसियर्स के बर्फ पिघलते जा रहे हैं। बर्फ पिघलने के कारण समुद्र का जल स्तर भी लगातार बढ़ता जा रहा है, लेकिन पूरी दुनिया में समुद्र का जल स्तर समान दर से नहीं बढ़ रहा है। उपग्रहों द्वारा भेजी गई ताजी तस्वीरों से इस बात का पता चला है। शोधकर्ताओं ने बताया कि पूरी पृथ्वी पर अलग-अलग जगह समुद्र का जल स्तर अलग-अलग दर से बढ़ रहा है। नए आंकड़ों के मुताबिक पूरे विश्व में एक मिमी. की औसत दर से समुद्र का जल स्तर बढ़ रहा है।

शोधकर्ताओं ने बताया कि भूमध्य रेखा के करीब प्रशांत महासागर और भारत के समुद्री तट तथा उत्तरी अमेजन नदी के तट से काफी दूर समुद्र का जल स्तर काफी तेजी के साथ बढ़ रहा है, वहीं अमेरिका के नजदीक समुद्र जल स्तर वृद्घि की दर में एक दशक के दौरान गिरावट आई है। उन्होंने इस विभिन्नता के पीछे भी ग्लोबल वार्मिंग को ही प्रमुख कारक बताया है। प्रमुख शोधकर्ता रिकार्डो रिवा ने बताया कि इस विभिन्नता के कारण भी असमान रूप से जलवायु परिवर्तन देखने को मिल रहा है।

रिवा ने बताया कि बर्फ पिघलने के कारण समुद्र का जल स्तर औसतन एक मिमी. बढ़ रहा है। इसके कारण पृथ्वी तथा समुद्र का तापमान भी लगातार बढ़ता जा रहा है। जल स्तर बढ़ने के कारण समुद्र के आयतन में भी वृद्घि हो रही है। एक अन्य शोधकर्ता टामिसिया ने बताया कि समुद्र के जल स्तर वृद्घि का सीधा असर समाज पर पड़ रहा है। लगातार बढ़ता तापमान इस बात का प्रमाण है। उन्होंने कहा कि इसके बारे में लोगों को सजग होना ही पड़ेगा। विल्लिस ने बताया कि यह बदलाव अभी हमें कम जरूर लग रहा होगा, लेकिन आने वाले समय में यह काफी विकराल रूप धारण कर लेगा, जिसका सामना करना लगभग असंभव हो जाएगा।

 

Latest

क्या ज्ञानवापी मस्जिद में जल संरक्षण के लिए बनाया गया फव्वारा

चंद्रमा खींच रहा है पृथ्वी का पानी, वैज्ञानिक ने खोजा अनोखा चंद्र स्रोत

यदि 50 डिग्री सेल्सियस तापमान हो जाए तो हालात कैलिफोर्निया जैसे होंगे

मूलभूत सुविधा भी नहीं है गांव के स्कूलों में

घातक हो सकता है ऐसे पानी पीना

20 साल पुराना पानी पीते है अमित शाह जो है एकदम शुद्व ,जाने कैसे

चीनी शोधकर्ताओं ने मंगल में ढूंढ लिया पानी

गोवा के कृषि मंत्री ने बता दिया गृहमंत्री अमित शाह कितना महंगा पानी पीते है

कोयला संकट में समझें, कोयला अब केवल 30-40 साल का मेहमान

जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए पुराने बिजली संयंत्र बंद किए जाएं