स्‍वच्‍छता के तहत महाराष्‍ट्र की सर्वोत्तम पद्धतियां

Author:admin
जलापूर्ति एवं स्‍वच्‍छता विभाग, महाराष्‍ट्र सरकार

1. खुले में शोच करें और सबके सामने उजागर हों (ग्राम वाकी बू, तालुका दियोजलगांव राजा, जिला बुलढाना)
2. बच्‍चों के लिए ''स्‍वच्‍छता का आनंद लें'' (ग्राम वड़गांव, तालुका लोनार, जिला बुलढाना)
3. 'सुरक्षित जल भंडारण'' गांव मलशेवगा, तालुका चालीसगांव, जिला जलगांव
4. खुले में शोचमुक्‍त ग्राम अभियान'' गांव खेराड़ी वांगी, तालुका काड़ेगांव, जिला सांगली
5. ''शोचालय निर्माण हेतु ''भीषी'' (गांव हींगना कवाथल, तालुका संग्रामपुर, जिला बुलढाना
6. स्‍वास्‍थ्‍य संरक्षण (गांव मलशेवगा, तालुका चालीसगांव, जिला जलगांव)
7. स्‍वच्‍छ सोमवार (गांव भानखेड़, तालुका चिखिल, जिला बुलढाना)
8. बेकार पानी का पुन:चक्रण: सुनीता द्वारा निर्मित गृहकार्य का मॉडल (गांव वड़गांव तेजान, तालुका लोनार, जिला बुलढाना)
9. बेकार पानी से वृक्षारोपण (गांव सवांगी टेकाले, तालुका दियोलगांव राजा)
10. स्‍थानीय सहकारिता शौचालय निर्माण में मदद करती हैं। (गांव रिठारे हरनाक्‍शा, तालुका वाल्‍वा, जिला सांगली)
11. अंजुबाई ने 200 शौचालयों को अभिप्रेरित किया (गांव कंकटरेवड़ी, तालुका अटपड़ी, जिला सांगली)
12. ग्रामीण स्‍चव्‍छता दुकान की स्‍थापना करना (गावं रिठारे हरनाक्‍श, तालुका वाल्‍वा, जिला सांगली)
13. जनजातीय लोगों के लिए स्‍वच्‍छता संसाधन केंद्र, गांव राजुरा, तालुका जलगांवजमोद, जिला बुलढाना

Latest

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व

प्रतापगढ़ की ‘चमरोरा नदी’ बनी श्रीराम राज नदी

मैंग्रोव वन जलवायु परिवर्तन के परिणामों से निपटने में सबसे अच्छा विकल्प

जिस गांव में एसडीएम से लेकर कमिश्नर तक का है घर वहाँ पानी ने पैदा कर दी सबसे बड़ी समस्या