सावधान! जो पानी आप पी रहे हैं, वह प्रदूषित है 

Author:अरविंद कुमार सिंह 
Source:साप्ताहिक रविवार, 1985 

 प्रदूषित यमुना नदी,फोटो:इंडिया वाटर पोर्टल(फ्लिकर)

क्या आपको मालूम है कि देश में उपलब्ध दो-तिहाई जल प्रदूषित हो चुका है। और इसी जल को पीकर देश की 80 फीसदी आबादी हर रोज नई बीमारियां मोल ले रही हैं। गांव की बात तो दरकिनार दिल्ली और मुंबई जैसे महानगरों में यमुना और काली नदी के पानी से हजारों लोग आज तपेदिक और पक्षाघात जैसी बीमारियों के शिकार हो चुके हैं। जल प्रदूषण के बढ़ते हुए खतरे और सरकार की निष्क्रियता पर अरविंद कुमार सिंह की रिपोर्ट।

दक्षिणी राजस्थान के एक हिस्से में पिछले दिनों किए गए एक सर्वेक्षण में पाया गया है कि वहां की कुल आबादी लगभग सात लाख में से लगभग दो लाख लोग ‘नारू’ नामक एक भयानक बीमारी से पीड़ित हैं। वहां लोगों को यह बीमारी प्रदूषित जल पीने से हुई है। उसी तरह कुछ दिनों पहले ‘काशी हिंदू विश्वविद्यालय’ के वैज्ञानिकों ने एक बार फिर यह चेतावनी दी है कि वाराणसी में गंगा में स्नान करने वाले गंगाजल ना पीएं, क्योंकि इससे उनका स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। जाहिर है कि ‘हिंदू विश्वविद्यालय’ के वैज्ञानिकों को यह चेतावनी इसलिए देनी पड़ी है कि बनारस में शहर भर की गंदगी के गंगा में मिलने के कारण वहां गंगा का पानी बेहद प्रदूषित हो चुका है और इसके इस्तेमाल का मतलब है, बीमारी को निमंत्रण देना। पर इन से भी ज्यादा चौंकाने वाली रिपोर्ट तो मुंबई की है। उत्तर-पूर्व मुंबई से गुजरकर अरब सागर में मिलने वाली काली-नदी का पानी इतना ज्यादा प्रदूषित हो चुका है कि इस नदी में मछलियां तो खैर जीवित नहीं ही बची हैं, अलबत्ता इसके पानी के इस्तेमाल से हजारों की संख्या में लोग पक्षाघात तथा दूसरी बीमारियों से पीड़ित हैं। मवेशी बीमार हो रहे हैं और मर रहे हैं और बहुत बड़े इलाके में खेती चौपट हो गई है। इन तथ्यों का पता तब चला जब इंस्टीट्यूट ऑफ साइंसेज के वैज्ञानिकों ने मुंबई में अंबिवली से लेकर टिटवाला तक के 10 किलोमीटर लंबे भाग में जगह-जगह से काली नदी के पानी का नमूना लेकर उसकी जांच की तथा वहां रहने वाली आबादी पर इसके प्रभाव का सर्वेक्षण किया। और तो और, राजधानी दिल्ली के चिकित्सा विशेषज्ञों का मत है कि यमुना-पार क्षेत्र के कुल 16 लाख आबादी का 10 फीसद लगभग डेढ़ लाख लोग प्रदूषित जल को इस्तेमाल करने के कारण छह रोग के मरीज हो चुके हैं। यह तो खैर कुछ खबरें हैं, जो कि हाल में अखबारों की सुर्खियों में थीं। पर यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि देश का कोई ऐसा शहर या गांव नहीं है जहां प्रदूषित जल की समस्या ना हो। सच पूछा जाए तो प्रदूषित जल आज देश में स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़ी चुनौती हो चुका है।

देश में जल-प्रदूषण इसलिए भी है क्योंकि यहां की 90 फीसद नदियां तथा सहायक नदियों से ही पेयजल की प्राप्ति होती है। जो प्रदूषण की गिरफ्त में हैं। अन्य विकासशील देशों की भांति अपने देश में भी जल प्रदूषण के खतरे से मुक्ति के लिए कोई कारगर तथा ठोस विकल्प नहीं खोजा जा सका है। यद्यपि देश में औद्योगिकीकरण की प्रक्रिया को पूर्णतः नहीं अपनाया गया है। तथापि जल प्रदूषण का संकट यहां ऐसे खतरनाक धरातल पर पहुंच गया है कि कभी भी देश में ‘मिनीमाता’ जैसा प्रकोप फैल सकता है। हमारी प्राचीन मान्यताएं हमें नदियों में सागर के प्रति श्रद्धा करना सिखाती हैं। पर वास्तविकता है कि हम सभी प्रकार की गंदगी और अवशेष इन्हीं पूज्य नदियों में डालकर मुक्त हो जाते हैं। अजीब स्थिति तो यह है कि सरकार भी इससे चिंतित नहीं है।

देश की 15 बड़ी नदियों के किनारे 80 फीसद आबादी निवास करती है। पर इन नदियों में प्रतिदिन हजारों जली-अधजली लाशों तथा पशुओं के शव प्रवाहित किए जाते हैं। इनके तटों पर अवस्थित हजारों औद्योगिक प्रतिष्ठान अपनी गंदगी और विषैले अवशेषों को नदी में प्रवाहित करते हुए न सिर्फ सौंदर्य नष्ट कर रहे हैं, बल्कि एक ऐसी स्थिति पैदा कर रहे हैं। जिसकी भविष्य में हमें भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है। पर देश के ग्रामीण अंचलों में तो स्थिति और भी खराब है, वहां पर प्रायः कुएं, तालाब, नाले का पानी उपयोग में लाया जाता है। गांव में बसने वाली भारत के तीन चौथाई आबादी में से मात्र 22 फीसद के लिए ही अभी तक पेयजल की व्यवस्था की जा सकी है। गांव में अधिकतर कुओं के ऊपर जगत नहीं है। तथा वे कच्चे हैं। बरसात में वे कुएं भर जाते हैं। जिससे तमाम रोगों की किटाणु उनमें आसानी से प्रविष्ट कर जाते हैं। कुओं में समुचित दवा का भी गांव में प्रबंधन नहीं है। दूसरी ओर ताल-पोखरों में आदमी तथा जानवर नहाते हैं। मैले कपड़े धोए जाते हैं तथा कृषि अवशेषों को साफ किया जाता है। फलतः व्यापक स्तर पर प्रदूषित होते हैं। प्रदूषित जल के कारण जनस्वास्थ्य को गंभीर खतरा पैदा हो चुका है।

यह एक चिंताजनक तथ्य है कि देश के प्रथम श्रेणी के 142 नगरों में से मात्र 9 नगर ही ऐसे हैं। जहां पर समुचित जल शोधन तथा निकासी का प्रबंधन है यानी दस लाख तक की आबादी वाले 133 नगर अपना प्रदूषित जल गंगा, कावेरी, गोदावरी, ब्रह्मपुत्र, नर्मदा, ताप्ती, घाघरा, यमुना आदि नदियों में प्रवाहित करते हैं। इन नदी तटों पर स्थित शहरों में देश के सात करोड़ लोग निवास करते हैं। लेकिन अब तक मात्र 300 करोड़ लीटर जल शोधन का ही प्रबंध किया जा सका है। हकीकत तो यह है कि देश की नगर पालिकाओं तथा महापालिकाओं द्वारा निर्मित नालियों के माध्यम से नगरों की 55 फीसद गंदगी नदी में प्रवाहित होती है। मेले-त्यौहारों तथा अन्य धार्मिक उत्सवों में तो प्रदूषण और भी अधिक बढ़ जाता है। उद्योगों का विषैला प्रदूषण नदी में जाकर भूमिगत जल को भी प्रभावित कर रहा है। छोटे नगरों की छोटी नदियां बड़ी मात्रा में प्रदूषित पानी बड़ी नदियों में मिला देती हैं।

चीनी उद्योग से निकलने वाले विषैले अवशेषों के परिणामस्वरूप लखनऊ तथा लखीमपुर खीरी जनपद का पानी विषाक्त होता जा रहा है। आगरा तथा मथुरा में यमुना का पानी पीने योग्य नहीं रहा है। भारतीय पर्यावरण सोसाइटी के वैज्ञानिकों ने दिल्ली के यमुना जल के परीक्षण के बाद यह निष्कर्ष निकाला कि रासायनिक पदार्थों तथा गंदे तत्वों को विसर्जित किए जाने से यमुना-जल विषाक्त तथा काला पड़ता जा रहा है। दिल्ली के गंदे नालों तथा 4000 औद्योगिक इकाइयों के विषैले अवशेषों को समेटते हुई, यमुना नदी फरीदाबाद की औद्योगिक गंदगी तथा मथुरा के कारखानों की रासायनिक अवशेषों को निगलती हुई एक जहरीली नदी के रूप में आगरा में घुसती है। 

यमुना दिल्ली के 48 किलोमीटर लंबी सीमा से होकर गुजरती है। दिल्ली जलापूर्ति का दो-तिहाई हिस्सा यमुना से ही आता है। एक सर्वेक्षण के अनुसार यमुना से प्रतिदिन 120 करोड़ लीटर पानी काम में लिया जाता है। जिसमें से लगभग 80 फीसद यानी 96 करोड़ लीटर गंदा पानी नदी से वापस लौट जाता है। दिल्ली के गंदे पानी को निथारने के लिए लगे संयंत्र की क्षमता बहुत अपर्याप्त है। केवल 46.6 फीसदी गंदा पानी ही कुछ पूरा और कुछ अधूरा निथारा जा रहा है। बाकी 51.5 करोड़ लीटर गंदा पानी शहर के 17 खुले नालों से सीधा यमुना में जा गिरता है। 

सर्वाधिक पवित्र मानी जाने वाली नदी गंगा आज व्यापक स्तर पर प्रदूषण का शिकार बन चुकी है। केंद्रीय जल प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एक रिपोर्ट के अनुसार आठ लाख की आबादी वाले महानगर इलाहाबाद की गंदगी तथा क्षत-विक्षत लाशों की लगातार गंगा में प्रवाहित किए जाने का परिणाम यह है कि इलाहाबाद से कानपुर तक गंगा जल भयावह स्तर पर प्रदूषण का शिकार हो चुका है। कुंभ मेले में भयंकर भीड़ के दौरान तो गंगाजल का प्रदूषण और बढ़ जाता है। ‘पश्चिमी बंगाल राज्य प्रदूषण बोर्ड’ के अनुसार वहां गंगाजल इतना प्रदूषित है कि कोलकाता के निकटवर्ती 24-परगना जिले में यह सिंचाई कार्य में भी प्रयुक्त होने लायक भी नहीं रह जाता है। यहीं प्रसंगवश उल्लेख अन्यथा नहीं होगा कि कोलकाता जैसे महानगर तथा लखनऊ, भुवनेश्वर, जयपुर, त्रिवेंद्रम आदि प्रांतीय राजधानियों में आज भी जल निकासी एवं शोधन की आंशिक व्यवस्था ही हो पाई है। जल प्रदूषण के भयावह खतरे से ने न सिर्फ भारत सरीखे विकासशील देशों के लिए ही नहीं, बल्कि विकसित राष्ट्रों के सामने भी चुनौती खड़ी की है। विकसित देश जल प्रदूषण समस्या से मुक्ति के लिए नवीनतम वैज्ञानिक तकनीकों पर अरबों डॉलर खर्च कर रहे हैं। दुनिया के सामने जल प्रदूषण का कितना बड़ा खतरा है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता कि  प्रतिदिन 25 हजार व्यक्ति प्रदूषित जल के इस्तेमाल अथवा जल की कमी से मरते हैं।................ 

 इसके बाद का लेख पढ़नें के लिए इस लिंक को दबाएं:-   पार्ट-2: सावधान! जो पानी आप पी रहे हैं, वह प्रदूषित है