सूखाग्रस्त गाँव बन गया देश का आदर्श मॉडल

Author:शिवेंद्र

बुंदेलखंड  के बांदा जिले के रहने वाले उमा शंकर पांडे ने सूखे और बदहाल अपने गांव जखनी में पानी स्थिति सुधारने का काम 15 साल पहले शुरू किया था। ग्रामीणों को जलसंरक्षण के बारे में समझाकर उन्होंने बिना किसी सरकारी मदद के किसानों और श्रमिकों के साथ मिलकर " मेड़बंदी" का काम शुरू कियाअपने पुरखों की जलसंरक्षण की तकनीक को अपनाकर उन्होंने अपने गांव को एक आदर्श गांव बना दिया है जखनी गांव को आदर्श माॅडल बनाकर  देश के 1034 गांवों को जलग्राम बनाने की घोषणा की गई है। वही  जलशक्ति मंत्रालय ने देशभर में 1050 जलग्राम बनाये इतना ही नहीं केंद्र सरकार की अटल भूजल परियोजना भी जखनी मॉडल पर ही तैयार की गयी है । उमाशंकर इस सफलता का श्रेय गांव वासियों और जलग्राम समिति को देते हैं। और उनके इस प्रयास क   भारत के विभिन्न राज्यों में किसान भी अपना रहे है।

Latest

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व

प्रतापगढ़ की ‘चमरोरा नदी’ बनी श्रीराम राज नदी

मैंग्रोव वन जलवायु परिवर्तन के परिणामों से निपटने में सबसे अच्छा विकल्प

जिस गांव में एसडीएम से लेकर कमिश्नर तक का है घर वहाँ पानी ने पैदा कर दी सबसे बड़ी समस्या