तिगांव के नीरज बने वाटर हीरो

Author:अंकित तिवारी
Source:इंडिया हिंदी वाटर पोर्टल

जैसे जैसे देश में जल संकट बढ़ रहा है वैसे वैसे लोगों में जल संरक्षण को लेकर जागरुकता भी बढ़ रही है।  दिल्ली से लगभग  950  किलोमीटर दूर  मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा जिले के ग्राम तिगांव के रहने वाले नीरज वानखड़े पिछले 4 सालों से जल संरक्षण  का काम कर रहे है।नीरज जल संरक्षण के साथ  समय-समय पर नदियों की साफ सफाई , स्कूल के बच्चों और ग्रामीणों को जल संरक्षण के प्रति जागरूक भी करते रहते है।

जल संरक्षण के लिए  नीरज  की कोशिश होती है कि वो अधिक अधिक लोगों को जागरूक कर सके। इसके लिए वो कई बार  अपने इनोवेशन का भी सहारा लेते है। जैसे  गांव में सेल्फी पॉइंट बनना, जल संरक्षण का मॉडल तैयार कर किसी भी प्रदर्शनी में उसे दिखना। इसके अलावा  सोशल मीडिया मे अपने  कार्यों का प्रचार  कर लोगों को पानी बचाने के लिये प्रेरित भी करते रहते है। 

नीरज कहते है जो भी पैसा जल संरक्षण के कार्य के लिए खर्चा होता है उसका अधिकतर भुगतान वो अपनी जेब से करते है। इसके साथ ही वह आने वाले दिनों में नदियों को बचाने के लिए व्यापक स्तर पर एक अभियान भी  शुरू करने वाले है। जल संरक्षण को लेकर नीरज के इस प्रयास की सराहना भारत सरकार भी कर चुकी है  और उन्हें केंद्र के जल शक्ति मंत्रालय के द्वारा 'वाटर हीरो' के रूप में  सम्मानित  भी किया गया है ।

मंत्रलाय की और से उन्हें  10000 हज़ार की जो प्रोत्साहन राशि दी गई थी, उसे भी उन्होंने जल संरक्षण के कार्य के लिए खर्च कर दिया है। नीरज ने एक साउंड सिस्टम खरीद लिया है ताकि वह अधिक से अधिक लोगों को जल संरक्षण के प्रति जागरूक कर सके।

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन