तिगांव के नीरज बने वाटर हीरो

Author:अंकित तिवारी
Source:इंडिया हिंदी वाटर पोर्टल

जैसे जैसे देश में जल संकट बढ़ रहा है वैसे वैसे लोगों में जल संरक्षण को लेकर जागरुकता भी बढ़ रही है।  दिल्ली से लगभग  950  किलोमीटर दूर  मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा जिले के ग्राम तिगांव के रहने वाले नीरज वानखड़े पिछले 4 सालों से जल संरक्षण  का काम कर रहे है।नीरज जल संरक्षण के साथ  समय-समय पर नदियों की साफ सफाई , स्कूल के बच्चों और ग्रामीणों को जल संरक्षण के प्रति जागरूक भी करते रहते है।

जल संरक्षण के लिए  नीरज  की कोशिश होती है कि वो अधिक अधिक लोगों को जागरूक कर सके। इसके लिए वो कई बार  अपने इनोवेशन का भी सहारा लेते है। जैसे  गांव में सेल्फी पॉइंट बनना, जल संरक्षण का मॉडल तैयार कर किसी भी प्रदर्शनी में उसे दिखना। इसके अलावा  सोशल मीडिया मे अपने  कार्यों का प्रचार  कर लोगों को पानी बचाने के लिये प्रेरित भी करते रहते है। 

नीरज कहते है जो भी पैसा जल संरक्षण के कार्य के लिए खर्चा होता है उसका अधिकतर भुगतान वो अपनी जेब से करते है। इसके साथ ही वह आने वाले दिनों में नदियों को बचाने के लिए व्यापक स्तर पर एक अभियान भी  शुरू करने वाले है। जल संरक्षण को लेकर नीरज के इस प्रयास की सराहना भारत सरकार भी कर चुकी है  और उन्हें केंद्र के जल शक्ति मंत्रालय के द्वारा 'वाटर हीरो' के रूप में  सम्मानित  भी किया गया है ।

मंत्रलाय की और से उन्हें  10000 हज़ार की जो प्रोत्साहन राशि दी गई थी, उसे भी उन्होंने जल संरक्षण के कार्य के लिए खर्च कर दिया है। नीरज ने एक साउंड सिस्टम खरीद लिया है ताकि वह अधिक से अधिक लोगों को जल संरक्षण के प्रति जागरूक कर सके।

Latest

भारत में 2030 तक 70 फीसदी कॉमर्शियल गाड़ियां होंगी इलेक्ट्रिक

राष्ट्रीय स्वाभिमान आंदोलन की कार्यकारिणी में पास हुआ प्रकृति केंद्रित विकास का प्रस्ताव

भारतीय नदियों का भाग्य संकट में

गंगा बेसिन में बाढ़ की घटनाओं में वृद्धि

"रिसेंट एडवांसेज इन वॉटर क्वॉलिटी एनालिसिस"पर ऑनलाइन आयोजन

स्वच्छता सर्वेक्षण में उत्तराखण्ड और इंदौर इस बार भी अव्वल कैसे

यूसर्क देहरादून ने चमन लाल महाविद्यालय में एक दिवसीय ऑनलाइन राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया

प्राकृतिक नाले को बचाने का अनोखा प्रयास

यमुना हमारे सीवेज से ही दिख रही है, नाले बंद कर देंगे तो वो नजर नहीं आएगी

29 लाख कृषकों को मिलेगा सरयू नहर परियोजना का लाभ