उत्तरकाशी एवलांच :क्या भूकंप से हुआ हिमस्खलन

उत्तरकाशी एवलांच,फोटो -Outlook

द्रौपदी का डंडा में नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (एनआईएम) के प्रशिक्षुओं के समूह का हिमस्खलन की चपेट में आने से ठीक दो दिन पहले 2 अक्टूबर को उत्तरकाशी जिले में 2.5 तीव्रता  का भूकंप आया था। शुक्रवार दोपहर तक 19 शव बरामद किए गए है जबकि 10 लोग अभी भी लापता बताए जा रहे हैं। वही अनुभवी पर्वतारोही और स्थानीय लोगों का कहना है कि भूकंप जिसका केंद्र आपदा स्थल से ज्यादा दूर नहीं था हो सकता है भूकंप के कारण ही हिमस्खलन हुआ होगा। 

नेशनल सेंटर ऑफ सीस्मोलॉजी के अनुसार, 2 अक्टूबर को सुबह करीब 10:43 बजे उत्तरकाशी जिले की भटवारी तहसील के नालद गांव के पास भूकंप का केंद्र था। गौरतलब है कि भुक्की गांव से शुरू होकर माउंट द्रौपदी के डांडा तक  के 25 किलोमीटर के ट्रेक के बीच में  भटवारी तहसील भी पड़ता है 

एवरेस्ट को सात बार फतह करने वाले  लव राज धर्मशक्तु का कहना है कि  कभी-कभी, यहां तक ​​​​कि छोटे झटके भी ग्लेशियरों में दरारें पैदा कर सकते हैं और बर्फ की ऊपरी परत उस पर थोड़ी मात्रा में दबाव डालने के तुरंत बाद निकल सकती है। कुछ ऐसा ही अतीत में हमने 2015  में एवरेस्ट बेस कैंप में भूकंप-ट्रिगर-हिमस्खलन के रूप में देखा है

उत्तरकाशी जिले का दक्षिण-पूर्व भाग सहित भटवारी भी भूकंपीय जोन 4 या  5 के अंतर्गत आता है। उत्तराखंड राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के वरिष्ठ भूविज्ञानी और कार्यकारी निदेशक पीयूष रौतेला ने कहा कि

"भूकंप हिमस्खलन और भूस्खलन को ट्रिगर करते हैं  यह पता लगाने के लिए एक विस्तृत जांच की आवश्यकता है कि क्या 2 अक्टूबर को भूकंप, जो कम तीव्रता का था, ने 4 अक्टूबर को हिमस्खलन शुरू किया"।

उत्तरकाशी ट्रेकिंग एंड माउंटेनियरिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष जयेंद्र राणा ने भी भूकंप के एंगल को नकारा नहीं है  और उन्होंने कहा  द्रौपदी का डंडा एक सुरक्षित चोटी है और हमने वहां कभी किसी बड़े हिमस्खलन के बारे में नहीं सुना है। 4 अक्टूबर की घटना भूकंप के दो दिन बाद हुई थी। मुझे लगता है इस एंगल से भी इस घटना की जांच होनी चाहिए

दरअसल 4 अक्तूबर यानी मंगलवार सुबह नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (एनआईएम) के 34 प्रशिक्षुओं और 7 प्रशिक्षकों सहित पर्वतारोहियों की 41 सदस्यीय टीम द्रौपदी का डंडा-2 (डीकेडी-2) चोटी पर हिमस्खलन के बाद फंस गई थी। जिसमे 12 टीम के सदस्यों को बचा लिया गया है वही 19 लोगों की मौत हो गई है,10 लोग अभी भी लापता बताए जा रहे है । 

नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (एनआईएम) द्वारा जारी बुलेटिन के अनुसार अब तक बरामद 19 शवों में से 15 प्रशिक्षु और 4 उनके प्रशिक्षक के  हैं।वही खराब मौसम के कारण गुरुवार को रेस्क्यू ऑपरेशन रोक दिया गया ।अगले  दिन  शुक्रवार  को  फिर से रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू हुआ और 3 और शव बरामद किया गया । 

एनआईएम के अधिकारियों के अनुसार,  बरामद हुए 19 शवों में से केवल दो महिलाओं - नौमी रावत और सविता कंसवाल की पहचान की गई है। उत्तरकाशी की रहने वाली कंसवाल केवल 16 दिनों में माउंट एवरेस्ट और माउंट मकालू पर चढ़ने वाली पहली भारतीय महिला थीं और उन्होंने एक राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया था।

 

 

 

 

Latest

भारत में क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन