विकास कार्य के बाद सूखा तालाब

Author:आईबीएन-7
Source:आईबीएन-7, 14 अक्टूबर 2012

गाजियाबाद का पक्का तालाब 400 साल पुराना है जिसे यहां रहने वाले बाबा रमते राम ने बनवाया था। लेकिन पिछले 10 साल में देखते-देखते तालाब खत्म हो गया और ये सब हुआ है नगर निगम के अधिकारियों की लापरवाही से। पहले तो नगर निगम के अधिकारियों ने यहां कूड़ा डालकर इसे पाटने का काम किया। फिर यहां हो रहे अतिक्रमण पर आंखें मूंद ली। आज हालात ये है कि 17 हजार वर्ग मीटर का तालाब आठ हजार वर्ग मीटर का ही बचा है। तालाब के बाकी जमीन पर अवैध रूप से मकान बना लिए गए हैं। गाजियाबाद नगर निगम ने पिछले साल पक्का तालाब पर 5 करोड़ रुपये खर्च किए लेकिन तालाब की हालत ये है कि इस साल अच्छी खासी बारिश होने के बाद भी यहां पानी नहीं है। तालाब बारिश के पानी को इकट्ठा कर भूमिगत पानी को रिचार्ज करता है और गाजियाबाद के गिरते भूजल को बचाने का अहम जरिया है। पक्का तालाब में आसपास का इक्ट्ठा हुआ बारिश का पानी पहुंचता था। लेकिन तालाब में बारिश के पानी आने के रास्तों को रोक दिया गया। जिससे बाहर बारिश का पानी इकट्ठा होकर परेशानी पैदा कर रहा है। वहीं तालाब सूखा पड़ा है।

Latest

गुजरात के विश्वविद्यालय ने वर्षा जल को सरंक्षित करने का नायाब तरीका ढूंढा 

‘अपशिष्ट जल से ऊर्जा बनाने में अधिक सक्षम है पौधा-आधारित माइक्रोबियल फ्यूल सेल’: अध्ययन

15वें वित्त आयोग द्वारा ग्रामीण स्थानीय निकायों को जल और स्वच्छता के लिए सशर्त अनुदान

गंगा किनारे लोगों के घर जब डूबने लगे

ग्रामीण स्थानीय निकायों को 15वें वित्त आयोग का अनुदान और ग्रामीण भारत में जल एवं स्वच्छता क्षेत्र पर इसका प्रभाव

जल संसाधन के प्रमुख स्त्रोत क्या है

बाढ़ की तबाही के बीच स्त्रियों की समस्याएं

अनदेखी का शिकार: शुद्ध जल संकट का स्थायी निदान

महाराष्ट्र एक्वीफर मैपिंग द्वारा जलस्रोत स्थिरता सुनिश्चित करना 

बिहार में जलवायु संकट से बढ़े हीट वेव से निपटने का बना एक्शन प्लान