वनों की परिभाषा बदलने पर सरकार से जवाब तलब

Source:दैनिक जागरण, 12 फरवरी, 2020

दैनिक जागरण, 12 फरवरी, 2020

हाईकोर्ट ने वनों की परिभाषा बदलने के मामले में सरकार से दो सप्ताह में जवाब मांगा है। कोर्ट ने साफ किया है कि यदि 26 फरवरी तक जवाब दाखिल नहीं किया गया तो प्रमुख सचिव व पीसीसीएफ को व्यक्तिगत रूप से तलब होना पड़ेगा।

मंगलवार को वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया व न्यायमूर्ति एनएस धानिक की खंडपीठ में नैनीताल के पर्यावरणविद प्रो.अजय रावत व अन्य की जनहित याचिका पर सुनवाई हुई। पूर्व में कोर्ट ने सरकार को तीन सप्ताह में जवाब पेश करने को कहा था, लेकिन आज तक सरकार की तरफ से जवाब दाखिल नहीं किया गया। प्रो. रावत के साथ ही नैनीताल के विनोद पांडे व रेनू पाल ने भी अलग-अलग जनहित याचिकाएं दायर की हैं। याचिका में 21 नवम्बर 2019 को उत्तराखंड के वन एवं पर्यावरण अनुभाग के उस आदेश को चुनौती दी गई है, जिसमें कहा गया है कि उत्तराखंड में जहां दस हेक्टेयर से कम या 60 प्रतिशत से कम घनत्व वाले वन क्षेत्र हैं उनको वन की श्रेणी से बाहर रखा जाएगा। उनको वन नहीं माना जाएगा। याचिका दायर करने वालों का कहना है कि यह न शासनादेश है, न ही कैबिनेट से पारित आदेश।

TAGS

forest uttarakhand, forest, forest hindi, forest meaning uttarakhand, uttarakhand, uttarakhand hindi, uttarakhand high court decisons on forest, environment, environement protection.

 

Latest

मिलिए 12 हज़ार गायों को बचाने वाले गौरक्षक से

स्वस्थ गंगा: अविरल गंगा: निर्मल गंगा

पीएम मोदी का बचपन जहाँ गुजरा कभी वहां था सूखा आज बदल गई पूरी तस्वीर 

वायु प्रदूषण के सटीक आकलन और विश्लेषण के लिए नया मॉडल

गंगा का पानी प्लास्टिक और माइक्रोप्लास्टिक से प्रदूषित, अध्ययन में पता चला

शेरनी:पर्यावरण और वन्यजीव संरक्षण पर ध्यान आकर्षित करने का प्रयास

जलवायु परिवर्तन के संकट से कैसे लड़ रहे है पहाड़ के किसान

यूसर्क द्वारा “वाटर एजुकेशन लेक्चर सीरीज” के अंतर्गत “जल स्रोत प्रबंधन के सफल प्रयास पर ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन

वर्ल्ड एक्वा कांग्रेस 15वाँ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है जंगल की आग से निकला धुआं: अध्ययन