विश्व पर्यावरण स्वास्थ्य दिवस

Author:शिवेंद्र

विश्व पर्यावरण स्वास्थ्य दिवस,फोटो साभार- haribhumi

विश्व पर्यावरण स्वास्थ्य दिवस हर साल 26 सितंबर को मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का लक्ष्य पर्यावरण की स्थिति के बारे में लोगों में जागरूकता बढ़ाना और लोगों को इसे खराब होने से रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाने के लिए प्रोत्साहित करना है। प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग से उत्पन्न खतरों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए यह दिन काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि पृथ्वी हमारा घर है, इस प्रकार इसे बिगड़ने से रोकने के लिए कुछ भी नहीं करके हम न केवल पर्यावरण को खतरे में डाल रहे हैं बल्कि खुद को भी खतरे में डाल रहे हैं।

 यह दिन पहली बार वर्ष 2011 में इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ एनवायर्नमेंटल हेल्थ द्वारा मनाया गया था। IFEH ने इसे पर्यावरणीय स्वास्थ्य संरक्षण और इसको प्रसारित   करने का अपना मिशन बना लिया है। वे अपने समय का एक महत्वपूर्ण हिस्सा वैज्ञानिक और तकनीकी अनुसंधान के लिए समर्पित करते हैं।

हमें यह स्वीकार करना चाहिए कि पर्यावरण, स्वास्थ्य और अर्थशास्त्र का अटूट संबंध है। इसलिए, हमारे लिए यह महत्वपूर्ण है कि हम अपने पर्यावरण के साथ-साथ अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपने पर्यावरण की बहाली के लिए कार्रवाई करें।

हर वर्ष इस दिन को एक खास थीम के साथ  मनाया जाता है  । इस साल भी इसे एक अलग थीम के साथ मनाया गया है  इस बार  स्ट्रेंथनिंग एनवायरनमेंटल हेल्थ सिस्टम फॉर द इंप्लिमेंटेशन ऑफ द सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स यानि  एनवायरमेंटल हेल्थ सिस्टम को मजबूत बनाने का काम किया जाये , ताकि लंबे वक़्त तक पर्यावरण और मानवों की लंबी उम्र और अच्छी सेहत के लक्ष्य को पूरा तरह से हासिल किया जा सके  . 

Latest

वायु प्रदूषण कम करने के लिए बिहार बना रहा है नई कार्ययोजना

3.6 अरब लोगों पर पानी का संकट,भारत भी प्रभावित: विश्व मौसम विज्ञान संगठन

अब गंगा में प्रदूषण फैलाना पड़ेगा महंगा!

बीएमसी ने पानी कटौती की घोषणा की; प्रभावित क्षेत्रों की पूरी सूची देखें

देहरादून और हरिद्वार में पानी की सर्वाधिक आवश्यकता:नितेश कुमार झा

भारतीय को मिला संयुक्त राष्ट्र का सर्वोच्च पर्यावरण सम्मान

जल दायिनी के कंठ सूखे कैसे मिले बांधों को पानी

मुंबई की दूसरी सबसे बड़ी झील पर बीएमसी ने बनाया मास्टर प्लान

जल संरक्षण को लेकर वर्कशॉप का आयोजन

देश की जलवायु की गुणवत्ता को सुधारने में हिमालय का विशेष महत्व